Sunday, September 12, 2010

कई बार साहसी व्‍यक्तियों के साहस भरे कारनामें पढकर या सुनकर बहुत खुशी होती है,एक प्रेरणा मिलती है कि हम भी साहसपूर्ण कार्य करें । हम किसी भी आकर्षक व्‍यक्त्वि को देखकर वैसा ही बनने का निर्णय कर लेते हैं । कोई आदमी ज्‍यादा पढने लिखने वाला है तो हमारे बीच भी यह भावना उठती है कि हमें भी पढना लिखना चाहिए । कोई कम बोलता है तो हमारे बीच भी कम बोलने वाले व्‍यक्त्वि की चाहत उभरती है । इसी प्रकार किसी को अच्‍छे कपडे पहने देखकर, यदि कोई आट में रुचि लेता हो तब भी हम वैसी ही योग्‍यता पाने की इच्‍छा उत्‍पन्‍न कर लेते हैं । यह बहुत अच्‍छी बात है । यदि आप ज्‍यादा शांत रहना चाहते हैं और कम बोलना चाहते हैं तो अध्‍ययन की ओर ज्‍यादा ध्‍यान देना चाहिए । अपनी रुचि बदली भी जा सकती है ।

No comments:

Post a Comment